Tuesday, September 18, 2018
Home > Slider > दलितों के साथ , पांच रात, दलितों को लुभाने भाजपा के दलित कार्ड का सच

दलितों के साथ , पांच रात, दलितों को लुभाने भाजपा के दलित कार्ड का सच

रायपुर मुनादी ।।

दलित एट्रोसिटी पर उनके द्वारा 2 अप्रैल को भारत बंद और सुप्रीम कोर्ट के एक आदेश को दलितों द्वारा भाजपा से जोड़ने की कोशिश होने से भाजपा हाई कमान चौकन्ना हो गया है। छत्तीसगढ़ में आने वाले कुछ महीने में ही चुनाव होनेवाला है इसलिए भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने सभी सांसदों को 5 दिन दलित गांवों में गुजारने के निर्देश दिए गए हैं। हालांकि इसके फायदे और नुकसान का आंकलन दूर की बात है।
छत्तीसगढ़ में चुनाव के लिहाज से यदि देखें तो दलित निर्णायक भूमिका अदा करते हैं, यह अलग बात है कि इस वोट बैंक पर छत्तीसगढ़ जनता कांग्रेस अपना होने का दावा करती है।  पिछले दिनों भारत बंद के दौरान यहां के दलितों ने भी बढ़चढ़ कर हिस्सा लिया था। रायगढ़ के सारंगढ़ में छुटपुट घटना भी हुई थी। अब सवाल यह है कि दलितों के गांव में रुकने से उनकी समस्याओं का हल होता तो कोई समस्या ही नहीं होती।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *