Saturday, September 22, 2018
Home > Slider > पूर्व विधायकों व विधान परिषद सदस्यों पर ‘राज्य चिह्न’ का इस्तेमाल करने पर लगी रोक

पूर्व विधायकों व विधान परिषद सदस्यों पर ‘राज्य चिह्न’ का इस्तेमाल करने पर लगी रोक

धनेश कुमार की मुनादी।।

 

विधानसभा और विधान परिषद के पूर्व सदस्य अब अपने लेटर हेड या स्टेशनरी सामग्री पर प्रदेश सरकार के अधिकृत लोगो (राज्य चिह्न) का इस्तेमाल नहीं कर पाएंगे। विधानसभा अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित ने इस संबंध में निर्देश जारी कर दिए हैं।दीक्षित ने बताया कि लेटर हेड पर लोगो के इस्तेमाल के संबंध में एक पूर्व विधायक ने राज्यपाल राम नाईक को पत्र लिखा था। राज्यपाल इस संबंध में बहुत सजग हैं। उन्होंने इस तरफ मेरा ध्यान आकृष्ट करते हुए पत्र लिखा। पूरे मामले पर गंभीरता से विचार करने के बाद मैं इस निष्कर्ष पर पहुंचा हूं कि सरकारी लोगो का इस्तेमाल केवल मौजूदा एमएलए या एमएलसी ही कर सकते हैं।जो अब किसी सदन के सदस्य नहीं रहे, उनसे उम्मीद की जाती है वे सरकार के लोगो का प्रयोग न करें। उन्होंने कहा, कोई व्यक्ति किसी भी संस्था के लोगों का उपयोग नहीं कर सकता। विधानसभा या विधान परिषद के पूर्व सदस्यों पर भी यही नियम लागू होता है। विधानसभा के प्रमुख सचिव प्रदीप कुमार दुबे ने पूर्व विधायकों को विधानसभा अध्यक्ष के निर्देशों की जानकारी दे दी है।

 

*दो हजार पूर्व विधायकों पर पड़ेगा असर*

प्रदेश में करीब दो हजार पूर्व एमएलए व एमएलसी हैं। लेटर हेड पर सरकारी लोगो के उपयोग से वे सभी प्रभावित होंगे। विधानसभा अध्यक्ष ने पूर्व सदस्यों द्वारा सरकार के लोगों का इस्तेमाल रोकने के लिए पहली बार निर्देश जारी किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *