Tuesday, December 11, 2018
Home > Slider > जब बकाया का आंकड़ा छूने लगा 100 करोड़ का, छूट गया फिर पसीना बनाया वसूली के लिए टीम, अब 73 करोड़ का है लक्ष्य ……………….

जब बकाया का आंकड़ा छूने लगा 100 करोड़ का, छूट गया फिर पसीना बनाया वसूली के लिए टीम, अब 73 करोड़ का है लक्ष्य ……………….

रायगढ़ मुनादी।
बिजली बिल एक ऐसा बिल है जो हमेशा से ही गले की फांस बने रहती है। जिन उपभोक्ताओं ने जमा नही किया उनके लिए परेशानी का सबब तो बनता ही है विभाग के लिए उससे भी बड़ी परेशानी का सबब बनती है।
जिले में जब उपभोक्ताओं में बिजली बिल का बकाया करीब सौ करोड़ का आंकड़ा छूने लगा तब आनन फानन में वसूली अभियान शुरु किया गया। अब विभाग की अलग अलग टीम छापामार करवाई की तर्ज पर बकायादारों के घरों में पहुंच कर बकाया वसूल रहे है या फिरI बकाया जमा नही करने वालो के घरों की बिजली काट दी जा रही है। 100 करोड़ कर लगभग का आंकड़ा छूने के करीब पहुंचने पर विभाग द्वारा जिले में अलग शहरी ग्रामीण क्षेत्रो में बताया जा रहा है कि 24 टीम बनाई गई है जो लगातार कार्रवाई कर रही है। इन टीमो को विभाग द्वारा क्षेत्र वार बकाया उपभोक्ताओं की सूची उपलब्ध कराई गई है। सूची के अनुसार टीम दबिश देकर लाइन काटने या फिर तत्काल बकाया जमा करने कहा जा रहा है इस दौरान तो कई उपभोक्ता मौके पर टीम को ही बकाया जमा करा रहे है वही बड़ी संख्या में ऐसे उपभोक्ता भी है जो इतने के बाद भी बकाया बिजली बिल जमा नही कर रहे है ऐसे में उनकी सर्विस लाइन काट दी जा रही है। विभाग के पास इसके अलावा दूसरा कोई उपाय भी नही है।

मिली जानकारी के अनुसार जिले में बिजली उपभोक्ताओं पर करीब 80 करोड़ का बिल बकाया है. अधिकांश उपभोक्ता तो ऐसे हैं जो बिल जमा ही नहीं करना चाहते. यही वजह है कि बकाया बिल की वसूली करना विद्युत विभाग के लिए उंगली टेढ़ी करना पड़ रहा है। तमाम कवायद के बाद भी उपभोक्ता बिजली बिल जमा करने में दिलचस्पी नही दिखा रहा है ऐसे में विभाग के लिए यह किसी एवरेस्ट की फतह करने जैसा साबित हो रहा है रोजाना टीम जिले के विभिन्न स्थानों पर पहुंच कर बकाया वसूली अभियान चला रही है। बकाया वसूली करने अधिकारी से लेकर कर्मचारी तक गांव से लेकर शहर की गलियों की खाक छान रहे हैं। बावजूद इसके बकाया बिल जमा करने को लेकर उपभोक्ताओं में रुचि दिखलाई नहीं दे रही है.
ज़िले में विद्युत विभाग तीन भागों में बंटा है. पहला रायगढ़ शहरी क्षेत्र, दूसरा ग्रामीण क्षेत्र औऱ तीसरा सारंगढ़ अंचल, इनमें रायगढ़ शहरी क्षेत्र अर्थात डिवीजन एक मे सर्वाधिक बकाया है। विद्युत विभाग से मिली जानकारी के अनुसार डिवीजन वन में 40 करोड़ से अधिक तो डिवीजन दो में 25 और सारंगढ़ सर्किल में 20 करोड़ से अधिक का बिजली बिल उपभोक्ताओं पर बकाया है। अब चूंकि मार्च तक विभाग को राजस्व वसूली का टारगेट पूरा करना है, ऐसे में नवंबर माह के अंतिम सप्ताह से विभाग ने विशेष जांच औऱ वसूली अभियान जिले में चलाया है. विभाग के अधिकारियों की मानें तो इस अभियान में अब तक 2 करोड़ की बकाया वसूली की जा चुकी है। अधिकारियों की मानें तो इस जांच अभियान में जिले भर में विभाग की 24 अलग-अलग टीमें लगी हुई है, जिसमें अधिकारी और कर्मचारी दोनों सुबह से लेकर शाम तक शहर की गलियों से लेकर गांव के गलियारों तक की खाक छान रहे है और बकायादारों के कनेक्शन काटे जा रहे हैं।
बताया जा रहा है कि विभाग द्वारा 3 तरह की सूची बनाई गई है जिसमे एक निचले स्तर के उपभोक्ताओं की दुसरी मध्यम तीसरी बड़े शाश्किय व प्राइवेट प्रतिष्ठानो की इसमे 10 हजार और 25 हजार से ऊपर की अलग अलग सूची तैयार की गई है। बाकायदारो में शाश्किय प्रतिष्ठान से लेकर धनाढ्य भी शामिल है।

कार्यपालन अभियन्ता गुंजन शर्मा की माने तो 73 करोड़ वसूली का टारगेट रखा गया है इसे पूरा करने हर दिन विभाग की शहर से लेकर गांव की गलियों में पहुंच रही है। और अब तक करीब 2 करोड़ की वसूली हो चुकी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *