Saturday, September 21, 2019
Home > Top News > टिकट को लेकर ब्लैकमेलिंग का धंधा, पप्पू फरिश्ता से रिश्ता को लेकर भूपेश पर सवाल, भूपेश पर कार्रवाई ………..

टिकट को लेकर ब्लैकमेलिंग का धंधा, पप्पू फरिश्ता से रिश्ता को लेकर भूपेश पर सवाल, भूपेश पर कार्रवाई ………..

Munaadi News

 

 

रायपुर मुनादी ।।

 

 

 

कांग्रेसी नेताओं के टिकट वितरण को लेकर आये नए स्टिंग ऑपरेशन के मामले में फिरोज़ सिद्दीकी नामक एक व्यक्ति ने सोशल मीडिया पर यह स्वीकार किया है कि तह स्टिंग ऑपरेशन उसने किया है उनका कहना है है कि उनका उद्देश्य कांग्रेस में टिकट के लिए हो रहे सौदेबाजी को उजागर करना था, उन्होंने इस स्टिंग संबंधी जानकारी के लिए अपने फोन नंबर भी सोशल मीडिया में जारी किया है। लेकिन इस स्टिंग ऑपरेशन ने भूपेश और पप्पू फरिश्ता के रिश्ते पाए सवाल खड़े कर दिए हैं। अब कांग्रेसी ही कह रहे हैं कि पार्टी से हटाए गए पप्पू को भूपेश ने ही पार्टी में क्या इसी दिन के लिए लाया था?
इस स्टिंग ऑपरेशन में 3 पात्र है भूपेश बघेल, पप्पू फरिश्ता और फ़िरोज़ सिद्दीकी। कुछ साल पहले पप्पू फरिश्ता को तत्कालीन छत्तीसगढ़ प्रभारी नारायण सामी पर स्याही फेंकने के आरोप में उन्हें पार्टी से हटा दिया गया था। लेकिन कुछ माह पहले भूपेश बघेल ने उन्हें राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी से मिलवाया था और उनकी पार्टी में वापसी कराई थी, अब भूपेश के इसी काम पर सवाल खड़े हो रहे हैं। लोगों का कहना है कि क्या भूपेश पार्टी को यही दिन दिखाने पार्टी प्रवेश कराया था ?

पुनिया बनाम बघेल

कुछ दिन पहले यह बात सुर्खियों में थी और munaadi.com ने इसे प्रमुखता से उठाया भी था कि दिल्ली में भूपेश बघेल और छत्तीसगढ़ के कांग्रेस प्रभारी पीएल पुनिया के साथ जमकर बहस हुई थी जिसमें स्थानीय कांग्रेसी नेताओं ने बीचबचाव किया था। इस स्टिंग ऑपरेशन में जिसतरह पुनिया के नाम पर सारी सौदेबाजी हो रही है इससे भी सवाल खड़े हो रहे हैं। कांग्रेस के अंदरखाने में मौका तलाश रहे भूपेश विरोधियों की फिलहाल बांछें खिली हुई है और जल्द ही भूपेश पर बड़ी करवाई की बात कही जा रही है, हालांकि चुनाव सर पर है ऐसे में कार्रवाई क्या होगी इसपर धुंध जमी है।

 

सौदेबाजी के अफवाह पर भी मुहर

 

इस स्टिंग से इतना तो साफ हो गया है कि कांग्रेस में चुनावी टिकट को लेकर हर तरह की सौदेबाजी चल रही है। दावेदारी फार्म खरीदने और जमा करने से लेकर टिकट वितरण तक में पैसे के लेनदेन के आरोप लगते रहे हैं ऐसे में यह स्टिंग ऑपरेशन प्रदेश अध्यक्ष के लिए मुश्किलें खड़ी करते दिख रहा है।

 

munaadi ad munaadi ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *