Sunday, May 20, 2018
Home > Slider > आखिर मजदुरों का कौन कर रहा शोषण,  किस पर है प्रताड़ित करने का आरोप ….

आखिर मजदुरों का कौन कर रहा शोषण,  किस पर है प्रताड़ित करने का आरोप ….

कांसाबेल मुनादी।

पिछले 20 वर्षों से एक ही संस्थान में कार्य कर रहे मजदूर एक अधिकारी से परेशान और प्रताड़ना से परेशान व हरकतों से विवश होकर  1 महीने से कुछ मजदूर काम पर नहीं आ रहे हैं।
मजदूर इतने परेशान और पीड़ित हैं कि अब  काम पर आने से ही मना करने लगे हैं मजदूरों का आरोप है कि उनके अधिकारी के द्वारा मानसिक शारीरिक रूप से प्रताड़ित किया जाता है साथ ही काम के अनुसार उनकी मजदूरी का  भुगतान भी नहीं करने का आरोप लगाया।
‌ हालांकि मजदूरों ने खोलकर किसी से शिकायत नहीं की है लेकिन इतना जरूर है कि संबंधित विभाग के जिला अधिकारी को मौखिक रूप से शिकायत  किया गया है लेकिन किसी प्रकार की समस्या का समाधान नहीं होने से अब मजदूरो द्वारा काम पर आना ही बंद कर दिया गया है।
मामला है कांसाबेल की स्वास्थ्य उद्यान रोपणी संजय निकुंज में पदस्थ उद्यान अधीक्षक डीके सिन्हा के द्वारा मजदूरों को प्रताड़ित करने का मामला सामने आया है मजदूरों ने आरोप लगाया कि डीके सिंहा के द्वारा दिन रात काम कराया जाता है और भुगतान 8 घंटे की ही होती है मजदूरों ने बताया कि दिन में उद्यान के बगानों में काम क्या करते हैं और रात को यहां पर चौकीदारी भी करते हैं उल्लेखनीय है कि चौकीदारी के लिए उद्यान में दो लोगों को रखा गया है,  लेकिन उनको भी उद्यान के काम में लगाया जाता है और भुगतान केवल एक ही काम का सिर्फ 8 घण्टे का दिया जाता है मजदूरों की कहना है कि जब हम चौकीदारी और मजदूरी अलग-अलग कर रहे हैं ओवरटाइम काम कर रहे हैं तो हमारा भुगतान भी उसी रेट में डबल होना चाहिए लेकिन उद्यान अधीक्षक वीके सिन्हा के द्वारा 264 रुपए कलेक्टर  के दर पर 8 घंटे का ही भुगतान किया जाता है जबकि मजदूरों के काम के आधार पर ओवरटाइम की अलग से भुगतान करने की बात कहा गया जब मजदूरों के द्वारा उनके समक्ष मौखिक बात रखा जाता है तो उनके साथ अनर्गल और दुर्व्यवहार करने का भी आरोप लगाया गया है जिसे मजदूर छुब्द होकर कार्य आने में आने से मना कर दिए हैं।

मजदूरों के नहीं आने से फसल हो रहे बर्बाद

पिछले 1 माह से नाराज मजदूर नहीं आने से उद्यान में लगी फसल बर्बाद हो रहे हैं उल्लेखनीय है कि अभी इस भीषण गर्मी में सभी को पानी की सख्त जरूरत रहती है ऐसे में उद्यान में लगे फलदार वृक्षों को पानी की बहुत जरूरत है  ताकी फल अच्छे से ग्रोथ कर सके  और अच्छे उत्पादन आ सके लेकिन मजदूरों के नहीं होने से फल में पानी नहीं मिलने से लीची और आम जैसे फसल को भारी नुकसान हो रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *