Friday, November 16, 2018
Home > Slider > कोल ब्लॉक बाहुल्य बाहुल्य क्षेत्र में सत्यानंद राठिया की राह नहीं आसान कई गांव के लोग बहिष्कार के मूड में …………..

कोल ब्लॉक बाहुल्य बाहुल्य क्षेत्र में सत्यानंद राठिया की राह नहीं आसान कई गांव के लोग बहिष्कार के मूड में …………..

रायगढ़ मुनादी।

रायगढ़ जिले के लैलूंगा विधानसभा विधानसभा की बात करें तो यहां पर भाजपा प्रत्याशी सत्यानंद राठिया की राहों में लगातार कांटे बिछते तेज नजर आ रहे हैं । क्षेत्र के कुछ गांव के लोग तो चुनाव बहिष्कार के मूड में आ गए हैं।

इनमें से कुछ ऐसे गांव हैं जहां पेसा कानून में तहत ग्रामीणों के मिले अधिकारों पर लगातार अनदेखी की गई। और इस मामले में ग्रामीणों को स्थानीय विधायक का सहयोग नही मिला। क्षेत्र के ग्रामीण लगातार ग्राम सभाओं में और नई कोल ब्लॉक नहीं खुलने देने का प्रस्ताव लाते रहे और शासन प्रशासन इसकी अनदेखी करती रही स्थानीय जनप्रतिनिधियों ने भी सिर्फ दूर से तमाशबीन बनी रही है। अब विधायक की चुप्पी विधायक पति व भाजपा प्रत्याशी सत्यानन्द राठिया पर भारी पड़ने लगी है।

तमनार में एसईसीएल को कोल ब्लॉक के लिए भूमि का आवंटन कर दिया गया भूमि का अधिग्रहण कब और कैसे हुआ इसकी जानकारी किसी को नहीं । यहां तक कि ग्रामीण इसे लेकर लगातार सूचना का अधिकार का प्रयोग करते रहे लेकिन उन्हें यह जानकारी किसी ने नहीं दी गई। ग्राम सभा सभा के विरोध में प्रस्ताव आने के बाद भी भूमि का कब और कैसे अधिग्रहण किया गया इसमें विधायक का भी स्थानीय जनप्रतिनिधि का भी ग्रामीणों को सहयोग नहीं मिला और अब यह अनदेखी भाजपा प्रत्याशी सत्यानंद राठिया की मुश्किलों को बढ़ा दिया है।

क्षेत्र में लगातार सत्यानंद राठिया के राहों में कांटे बिस्तर चले जा रहे हैं ऐसे में यहां उनकी चुनावी राह की नया कैसे पार होगी देखने वाली बात होगी।

मिल रही जानकारी के अनुसार पेलमा, उरबा, लालपुर, जरीडीह, हिंजर जैसे गांव के हजारों की संख्या में ग्रामीण चुनाव का बहिष्कार करने और प्रत्याशी के गांव में घुसने मना कर दिया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *