Friday, November 16, 2018
Home > Slider > *व्यक्तिगत दुर्घटना बीमा योजना के तहत एसबीआई ने हितग्राही को दिया 2 लाख का चेक*

*व्यक्तिगत दुर्घटना बीमा योजना के तहत एसबीआई ने हितग्राही को दिया 2 लाख का चेक*

धरमजयगढ़ मुनादी।

दुर्घटना बीमा योजना के तहत एसबीआई धरमजयगढ़ शाखा में ब्रांच मैनेजर के हाथों हितग्राही श्रीमती भगवती चौहान को 2 लाख रूपए का चेक प्रदान किया गया.विदित हो की अभी हाल ही में कुछ दिनो पूर्व रायगढ़ मुख्य मार्ग में एक सड़क दुर्घटना हुई थी , जिसमे हितग्राही के पति बजरंग प्रसाद चौहान निवासी गेरसा की मौके पर ही आकस्मिक मृत्यु हो गई.इस घटना के बाद परिवार के पास आय का कोई साधन नहीं था मृतक की पत्नी और दो बच्चों का भविष्य अन्धकारमय हो गया था , इत्तेफाक से मृतक ने व्यक्तिगत दुर्घटना बीमा करवाया था जिसके तहत एसबीआई से आज उसके परिवार को दो लाख रूपए की सहायता मिली.ब्रांच मैनेजर प्रसाद जी ने हितग्राही को बैंक शाखा में बुलाकर समस्त स्टाफ और मृतक के परिजनों सहित स्थानीय मिडीया की उपस्थिति में चेक दिया. मैनेजर प्रसाद सर ने बताया बढ़ती सड़क दुर्घटना के मद्दे नज़र सभी जनो को व्यक्तिगत दूर्घटना बीमा करवाना चाहिए , धरमजयगढ़ क्षेत्र में सड़कें इतनी ख़राब हो चुकी हैं की आय दिन लोगों को जान जोखिम में डालकर सफर करना पड़ता है ऐसे आलम में ज़रा सी चूक होने से लोगों की जान पर बन आना लाज़मी है.लिहाज़ा लोगों को जागरूक होकर दुर्घटना बीमा करवाने की नितांत आवश्यकता है.जिसको अपने परिवार के प्रति खुद की जिम्मेदारी का अहसास होता है वो बीमा से कभी परहेज़ नहीं करता बल्कि ज़्यादा से ज़्यादा बीमा प्लान लेता है.एसबीआई की व्यक्तिगत दुर्घटना बीमा की जानकारी देते हुए उन्होंने बताया की एसबीआई के सभी खातेदार इस योजना का लाभ ले सकते हैं इस योजना के तहत एक सौ रूपए सालाना प्रीमियम पर दो लाख ,दो सौ रूपए सालाना प्रीमियम पर 4 लाख एवं 500 रूपए पर दस लाख तथा 1हज़ार सालाना प्रीमियम लेने पर 20 लाख तक मिलने का प्रावधान है.इस योजना में मृत्यु दावा के उपरान्त सीधे उत्तराधिकारी हितग्राही के खाते में बीमा लाभ की रक़म का भुगतान किया जाता है. बी एम प्रसाद जी ने समस्त खातेदारों से अपील किया है की अपने बैंक खाते से सालाना मामूली रक़म देकर अपने न सही परिवार के लिए इस योजना का लाभ लें. सरकारी बीमा योजना से कोई भी व्यक्ति वंचित नहीं होना चाहिए.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *