Tuesday, August 14, 2018
Home > Slider > जशपुर: तहसीलदार के इस रीडर के खिलाफ हुई घूसखोरी की सामूहिक शिकायत , घूसखोरी की लत लगने का लगाया आरोप, रीडर ने भी दिया नहले पे दहला कहा—-

जशपुर: तहसीलदार के इस रीडर के खिलाफ हुई घूसखोरी की सामूहिक शिकायत , घूसखोरी की लत लगने का लगाया आरोप, रीडर ने भी दिया नहले पे दहला कहा—-

जशपुर मुनादी।

 

जशपुर जिले के फरसाबहार तहसील में पदस्थ सहायक ग्रेड-3  तहसीलदार के रीडर के विरुद्ध घूसखोरी की शिकायत हुई है।यह शिकायत कोई और नहीं बल्कि इसी तहसील के अधिवक्ताओं और मुख्तारों ने की है।

 

 

ये है शिकायत

 

 

 

 

जशपुर कलेक्टर से की गई दो पेज की शिकायत में बताया गया है कि इन्हें घूसखोरी की लत  लग गई है ।न्यायालीन कार्य के काम हो, रिकार्ड दुरुस्ती या अन्य कोई काम जो इनके टेबल से होकर गुजरता है बिना चढ़ावा के फ़ाइल आगे नहीं बढ़ सकती। एक छोटे से इश्तहार को जारी कराने के लिए कम से कम 500 का चढ़ावा दिए बिना काम नही होता है। ऐसे भी कई मामले है जिसमे कई लोगो द्वारा चढ़ावा नही देने पर उनके मामले की फ़ाइल को गुम बता दिया जाकर परेशान किया जाता है।
ये बाबू इतना शातिर है कि चढ़ावा नही देने पर प्रकरण के ऑन लाइन नही किया जाता है चढ़ावा मिलने पर ही प्रकरण को ऑन लाईन किया जाता है।
यदि कहा जाए कि ये बाबू बिना चढ़ावा लिए एक पत्ता तक नहीं हीलाते हैं अब तो इनकी घूसखोरी की लत कुछ इस कदर बढ़ गई है कि आम जनता तो आम जनता अधिवक्ताओं ने भी मोर्चा खोल दिया है । बाबू की इस घूसखोरी से परेशान होकर आम आदमी और अधिवक्ता द्वारा संयुक्त रुप से एक हस्ताक्षरयुक्त पत्र कलेक्टर को सौंपा गया है जिसमें इस बाबू को जनहित को देखते हुए तत्काल हटाने की मांग की है।

रीडर ने रखा अपना पक्ष कहा……..

 

 

इधर इस मामले में तहसीलदार के रीडर जितेंद्र थवाईत ने मुनादी डॉट कॉम को बताया कि तहसील के मुख्तार और अधिवक्ताओं के द्वारा उनसे उनके मन मुताबिक कार्य करने का दबाव बनाया जा रहा था इसलिए उन्होंने 6 दिन पहले ही कलेक्टर को लिखित में आवेदन देकर रीडर पद से मुक्त करने का आग्रह किया है । उन्होंने  बताया कि उनके पीठासीन अधिकारी तहसीलदार को शिकायत न करके सीधे कलेक्टर से शिकायत करने के पीछे केवल शिकायतकर्ताओं का पूर्वाग्रह दिखता है ।थवाईत ने यह भी बताया कि महज 4 माह से ही वह रीडर पद का दायित्व सम्हाल रहे हैं।इधर इस मामले में जब हमने फरसाहार तहसीलदार से बात की तो उन्होंने कहा की अब तक उनके पास इस संबंध में कोई लिखित या मौखिक शिकायत नही आयी है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *