Tuesday, August 14, 2018
Home > Slider > सत्ता का सेमीफाइनल- कौन भाजपा के रेवा यादव के समर्थन में नाम लिया वापस, अब कांग्रेस व भाजपा में सीधी टक्कर

सत्ता का सेमीफाइनल- कौन भाजपा के रेवा यादव के समर्थन में नाम लिया वापस, अब कांग्रेस व भाजपा में सीधी टक्कर

कोरिया बैकुंठपुर से अनूप बड़ेरिया की मुनादी

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

प्रत्याशियों के नाम वापसी और चुनाव चिन्ह आवंटन के बाद कोरिया जिले के जिला पंचायत का उपचुनाव अब रोचक हो चला है । आज भाजपा के वरिष्ठ नेता विन्ध्येश पांडेय ने भाजपा प्रत्याशी रेवा यादव के समर्थन में अपना नाम वापस ले लिया है ।नएक और उम्मीदवार पारस राजवाडे ने भी रेवा यादव के समर्थन में अपना नाम वापस ले लिया है। वही बहुजन समाज पार्टी के ललित ने कांग्रेस प्रत्याशी रामकृष्ण साहू का समर्थन करते हुए अपना नाम वापस लिया है। इसी प्रकार गुलाब यादव ने हिंदू सेना के शिव कुमार यादव को समर्थन देते हुए अपना नाम वापस लिया है । जिससे अब कुल 4 प्रत्याशी मैदान में रह गए हैं भारतीय जनता पार्टी की ओर से रेवा यादव ,व कांग्रेस की ओर से रामकृष्ण साहू , हिंदू सेना की ओर से शिवकुमार यादव और गोंडवाना गणतंत्र पार्टी की ओर से अजीत बड़ा मैदान में मौजूद है। लोगों को सबसे ज्यादा हैरानी विन्ध्येश पांडेय के नाम वापस लेने से हुई । श्री पांडेय ने काफी जोर -शोर से अपना प्रचार प्रसार आरंभ कर दिया था । ग्रामीण अंचलों में उनके वॉल पेंटिंग के माध्यम से वोट मांगने की अपील भी चालू हो गई थी । लेकिन भारतीय जनता पार्टी के जिलाध्यक्ष तीरथ गुप्ता ने अपने चाणक्य नीति से विन्ध्येश पांडेय को मैनेज कर लिया। बताया जाता है कि मंत्री जी सहित भारतीय जनता पार्टी के अनेक बड़े नेताओं का काफी दबाव विन्ध्येश पांडेय के ऊपर बन गया था। जिसे वे सहन नहीं कर पाए। और मजबूरन अपना नाम वापस ले लिए। विन्ध्येश पांडे के नाम वापस लेने के बाद अब भाजपा के रेवा यादव की राह आसान नजर आ रही है। यदि श्री पांडे मैदान में होते तो कम से कम हजार 15 सौ मतों का नुकसान करते हैं । 2010 के चुनाव में विन्ध्येश पांडे ने 1000 से अधिक मत प्राप्त किए थे। आज हिंदू सेना की ओर से गोंडवाना गणतंत्र पार्टी के अजीत बड़ा के नामांकन पर आपत्ति लगाई गई थी । उनका नाम दो जगह की मतदाता सूची में है मुरी झरिया और रामपुर 2 मतदान केंद्रों में दर्ज है । लेकिन आपत्ति खारिज कर दी गई। इस चुनाव में हिंदू सेना भी काफी दमखम के साथ मैदान में है लेकिन देखना यह है वह कितना प्रभाव इस चुनाव में छोड़ सकती है। चूंकि पहले ही बताया जा चुका है कि यह यह चुनाव सत्ता का सेमीफाइनल के रूप में देखा जा रहा है। इसलिए सभी पार्टियों के लिए यह चुनाव बहुत ही महत्वपूर्ण है । हिंदू सेना के सुरेंद्र सिंह उर्फ छोटू सिंह विधानसभा की तैयारियों में लगे हैं । उनका प्रचार ग्रामीण अंचलों में काफी जोरों से बड़े समय से चल रहा है। इसलिए यह चुनाव भी हिंदू सेना के लिए प्रतिष्ठा का सवाल है। गोंडवाना गणतंत्र पार्टी बैकुंठपुर विधानसभा क्षेत्र के साथ ही कोरिया जिला में तीसरी शक्ति के रूप में अपने आप को स्थापित कर चुकी है । इसलिए जिला पंचायत के उपचुनाव को वह हल्के में लेना नहीं चाहेंगी। गोंडवाना गणतंत्र पार्टी ने पिछले चुनाव में अपने तीन प्रत्याशी जितवाने के साथ ही जिला पंचायत का उपाध्यक्ष पद भी हासिल कर लिया था। इसलिए गोंडवाना को अब दोनों ही राष्ट्रीय पार्टी हल्के में लेना नहीं चाहेंगी। चूंकि इस सीट पर पूर्व में ही भारतीय जनता पार्टी का कब्जा रहा है । यहां से भाजपा की स्वर्गीय हेमलता सिंह विजय हुई थी । इसलिए कांग्रेस के पास खोने के लिए कुछ नहीं है। लेकिन विधानसभा चुनाव नजदीक है। इसलिए सभी कांग्रेसी एकजुट होकर अपने सीनियर नेताओं की नजर में अपने अंक बढ़ाने के लिए इस चुनाव में बाजी मारने में कोई कोर कसर छोड़ना नहीं चाहेंगे । यदि कांग्रेस जीतती है कई नेताओं के ग्रेड में वृद्धि होगी। इसी प्रकार भारतीय जनता पार्टी के लिए चुनाव एक तरह से अग्नि परीक्षा है। जिसमें रेवा यादव के साथ ही छत्तीसगढ़ शासन श्रम मंत्री भैयालाल राजवाड़े एवं जिलाध्यक्ष तीरथ गुप्ता की प्रतिष्ठा दांव पर लगी है
इसलिए मंत्री जी के साथ भाजपा संगठन किसी भी प्रकार का रिस्क लेना नहीं चाहेगा । यदि भाजपा चुनाव हारती है तो कई नेताओं के सामने बड़ी परेशानी खड़ी हो सकती है। वही इस चुनाव को जीतने के बाद रेवा यादव के सामने उनका स्वर्णिम भविष्य ही नजर आ रहा है इसलिए भाजपा सत्ता के सेमीफाइनल में कोर कसर छोड़ना नहीं चाहेगी। अब देखना यह है कि जोर कितना बाजुएं कातिल में है….

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *