Wednesday, July 18, 2018
Home > Slider > सिर्फ संविलियन ही नहीं, वेतन विसंगती भी दूर हो, मुख्यमंत्री को भेजे जाएंगे पोस्टकार्ड

सिर्फ संविलियन ही नहीं, वेतन विसंगती भी दूर हो, मुख्यमंत्री को भेजे जाएंगे पोस्टकार्ड

 

जशपुर मुनादी ।।

 

 

 

आज सहायक शिक्षक कल्याण संघ की विकास खण्ड जशपुर इकाई के द्वारा एक अनूठी पहल की शुरुवात की गई। मुख्यमंत्री से विनम्र अपील करते हुए सहायक शिक्षक पंचायत की वेतन विसंगति को दूर कर क्रमोन्नत वेतन मान लागू करने के सम्बंध में पोस्ट कार्ड अभियान चालू की गई है।।

संविलियन पर गठित टीम द्वारा रिपोर्ट सौंपे जाने के बाद वर्ग 3 की वेतन विसंगति फ़िर ना हो जाये इसलिये कल्याण संघ जशपुर विकाश खंड द्वारा एक नयी पहल की गयी है जिसमे वर्ग 3 के समस्त शिक्षकों द्वारा पोस्ट कार्ड अभियान के तहत वेतन विसंगति दूर कर क्रमोन्नत वेतन मान लागू करने की मांग की गई है।
उक्त कार्य मे विकास खण्ड के समस्त सहायक शिक्षक पं संवर्ग ने अपना सहयोग प्रदान किया ।।

यहाँ गौरतलब यह है कि सहायक शिक्षक पंचायतों (शिक्षा कर्मी वर्ग 3) के एक वर्ग द्वारा लंबे समय से यह बात उठाई जा रही है कि यदि संविलियन, *वेतन विसंगति दूर किये बिना और बिना क्रमोन्नति प्रदान किये दी जाती है तो इससे सहायक शिक्षक पंचायतों को सर्वाधिक हानि है।
ऐसा नहीं है कि सिर्फ शिक्षा कर्मी वर्ग 3 ही वेतन विसंगति की शिकायत करता है, वस्तुतः वर्ग 1 और 2 भी वेतन विसंगति की शिकायत करता है परन्तु, वर्ग 3 का वेतन वर्ग 1 और 2 कि अपेक्षा काफी कम (8 साल की कालावधि पूर्ण करने के पश्चात पुनरीक्षित वेतनमान प्राप्त करने वाले सभी वर्गों के शिक्षा कर्मियों के आधार पर) है.

शिक्षा कर्मी वर्ग 3 की दूसरी बड़ी मांग क्रमोन्नति रही हैं। यहाँ गौरतलब यह है कि 2013 से पहले तक जब सरकार द्वारा पुनरीक्षित वेतनमान नही दिया जाता था, तब निर्धारित योग्यता रखने वाले शिक्षा कर्मी वर्ग 3 और 2 को 7 सालों में क्रमशः वर्ग 2 और 1 पदोन्नति और पद रिक्त न होने पर क्रमोन्नति दिया जाता था। पुनरीक्षित वेतनमान देने के बाद, यह नियम शिथिल कर दिया गया, जिससे भी शिक्षा कर्मी वर्ग 3 में काफी रोष है। यहाँ यह भी बात गौर करने वाली है कि वर्ग 1 के शिक्षा कर्मियों का शिक्षा कर्मी पद के सृजन के समय से ही पदोन्नति/ क्रमोन्नति का कोई प्रावधान नही था, उन्हें श्रेष्टम पद माना गया था। सो वर्ग 1 के अधिकांश शिक्षकों को क्रमोन्नति शिथिल करने पर कोई परेशानी नही हुई। वहीँ दूसरी ओर, वर्ग 2 को भी इससे ज्यादा दिक्कत इसलिय नहीं हुई क्योंकि वर्ग 1 और 2 के वेतन में ज्यादा अंतर नहीं हैं।

वर्ग 3 इससे इसलिये ज्यादा आहत है क्योंकि 8 साल पूरा करने के पश्चात वर्ग 2 और 3 के वेतन में प्रति माह लगभग 8000 रु का अंतर हैं।
इन्ही सब मुद्दों को लेकर सहायक शिक्षक कल्याण संघ जशपुर के पदाधिकारियों ने माननीय मुख्यमंत्री जी को यह सब विसंगतियाँ अवगत कराने के लिये *’मिशन पोस्टकार्ड’* के तहत मुख्यमंत्री जी को पोस्टकार्ड भेजने की शुरुआत की हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *